ISRO के वैज्ञानिकों को कोई मिशन सफल होने पर अलग से पैसे नहीं मिलते हैं उनको बस उनकी सैलरी ही मिलती है

आज हम चंद्रयान 3 बनाने वाले वैज्ञानिकों की सैलोरी के बारे में चर्चा करेंगे और यह भी जानेंगे की उनको सैलरी के आलावा कौन कौन से वेतन भत्ते मिलते हैं

इसरो में सीनियर साइंटिस्ट के पद के लीये शुरूआती बेसिक सैलरी 75 हजार से 80 हजार तक होती है इसके आलावा...

मकान किराया भत्ता, महंगाई भत्ता, चिकित्सा भत्ते, परिवहन भत्ते, बीमा, नई पेंशन योजना, यात्रा रियायत छोड़ें, सामूहिक बीमा और हाउस बिल्डिंग एडवांस शामिल होते हैं

यानि अगर इस बेसिक सैलरी में भत्ते जोड़ दिए जाएँ तो सैलरी 1 लाख रुपये से अधिक हो जाएगी

डिस्टिंग्विश्ड साइंटिस्ट की प्रति माह सैलरी 2,05,400 रुपये होती है

आउटस्‍टैंडिंग साइंटिस्‍ट पद के लिए 1,82,200 रुपये प्रीत माह वेतन मिलता है

साइंटिस्ट/इंजीनियर- एच पद के लिए प्रतिमाह 1,44,200 रूपये दिए जाते हैं

इसके आलावा साइंटिस्ट/इंजीनियर- एसजी को प्रतिमाह 1,31,100 रूपये और साइंटिस्ट/इंजीनियर- एसएफ पद के लिए 1,18,500 रुपये प्रतिमाह दिए जाते हैं 

अमेरिका के वैज्ञानिकों को भारत के वैज्ञानिकों से करीब पांच गुना ज्‍यादा सैलरी मिलती है